झारखण्ड

साहिबगंज जिला स्तरीय स्टेकहोल्डर कंसल्टेशन सेमिनार का हुआ आयोजन।

झारखण्ड/साहिबगंज जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वाधान में आज सिदो कान्हू सभागार में पोक्सो एक्ट,किशोर न्याय अधिनियम,राष्ट्रीय लोक अदालत एवं विधिक सेवा के तहत विभिन्न योजनाओं की जागरूकता हेतु जिला स्तरीय स्टेकहोल्डर कंसल्टेशन से संबंधित जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
इस दौरान प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार,उपायुक्त राम निवास यादव,पुलिस अधीक्षक अनुरंजन किस्पोट्टा,सिविल सर्जन डॉ0 रामदेव पासवान,अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी शेखर कुमार,बार एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रेम नाथ तिवारी,पोक्सो एक्ट ने विशेष न्यायधीश वीरेंद्र कुमार श्रीवास्तव, संयुक्त रूप से दीप प्रजवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
इस क्रम में बाल अधिकार को संरक्षित करने,बच्ची को कानूनी सुविधाएं कैसे सुनिश्चित हों इसी को लेकर विशेष चर्चा की गयी।
अपने बच्चों से हर छोटी बड़ी समस्या के बारे में पूछे और उनसे मित्रता पूर्वक व्यवहार करें।प्रधान जिला सत्र न्यायाधीश।
इस दौरान सिविल सर्जन डॉ0 रामदेव पासवान ने यौन हिंसा से पीड़ित बच्चों को चिकित्सा सुविधा देने उनकी जांच करने एवं उनका काउंसलिंग करने से संबंधित विशेष जानकारियां दी एवं कहां की पुलिस की मदद से कई बार यौन हिंसा से पीड़ित बच्चे आते हैं किन का पूरा उपचार किया जाता है।

मनोज कुमार सिंह प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकार का संबोधन
सेमिनार को संबोधित करते हुए  प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश  मनोज कुमार सिंह ने परिजनों से कहा कि अपने बच्चों से हर छोटी-छोटी बात को शेयर करें एवं उनकी समस्याएं सुने ताकि उनके साथ दुकान,विद्यालय,खेल के मैदान या सड़क अन्यथा उनके सगे संबंधी रिश्तेदारों द्वारा किए गए दुर्व्यवहार का पता चल सके।
उन्होंने कहा कि कई बार एक ही छत के नीचे सगे संबंधियों द्वारा यौन हिंसा का मामला सामने आता है जिसे परिवार द्वारा छुपाया जाता है इसका असर बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है जो बेहद खतरनाक सिद्ध हो सकता है
इसके अलावा उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन लगातार यौन हिंसा से जागरूकता करने को कहा
इसके अलावा उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन लगातार यौन हिंसा रोकने एवं बच्चों को उनका अधिकार दिलाने हेतु समन्वय के साथ कार्य कर रहा है अब जिले में बाल अधिकारों को देखने के लिए विशेष पोक्सो न्यायालय में देखा जाएगा।
उन्होंने कहा कि फरवरी माह में सभी के संबंध में से लोक अदालत का भी आयोजन किया जा रहा है जिसमें से अधिक से अधिक मामलों का निपटारा किया जाएगा जिसके लिए जिला प्रशासन पुलिस प्रशासन दंडाधिकारी अनुमंडल पदाधिकारी प्रखंड विकास पदाधिकारी अंचलाधिकारी आदि का समन्वय जरूरी है ताकि हम उन लोगों उनका हक दिला सके जोया तो विधिक जानकारी नहीं रखते हैं या पैसे के अभाव में हक से वंचित रह जाते हैं।
उपायुक्त रामनिवास यादव का संबोधन।
इस क्रम में उपायुक्त रामनिवास यादव ने उपस्थित सभी को संबोधित करते हुए कहा कि जिला प्रशासन की ओर से बाल अधिकार के संरक्षण से संबंधित कई योजनाएं चलाई जाती है जिसमें से विद्यालयों में मिड डे मील एक है। उन्होंने कहा कि सामाजिक स्तर पर देखें तो बच्चों के साथ होने वाले दुर्व्यवहार एवं यौन हिंसा के अलावे बच्चों पर मानसिक हिंसा शारीरिक हिंसा का भी काफी प्रभाव बुरा प्रभाव पड़ता है। मानसिक एवं शारीरिक प्रताड़ना पर कई बार देखा जाता है हम खुलकर नहीं बोलते परंतु उनका शिकार बच्चे आत्मविश्वास में कमी के कारण जीवन में अधिक सफल नहीं हो पाते है इसलिए हमें इस ओर भी विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। जब मानसिक प्रताड़ना झेल रहे बच्चों का सही काउंसलिंग हो और उन्हें सही मार्गदर्शन मिले।
इसके अलावा उन्होंने बताया कि वैसे बच्चे जिनके परिजनों की मृत्यु हो चुकी है जिला प्रशासन द्वारा उन्हें समय-समय पर कंपनसेशन दिया जाता है। साथ ही उनके भरण-पोषण के लिए भी जिला प्रशासन में कई व्यवस्थाएं है। उन्होंने कहा कि जिले में स्थापित बाल गृह में बच्चों की देखरेख करने के साथ-साथ उनके स्किल डेवलपमेंट तथा उन्हें पढ़ाई से जोड़ा जाता है। आने वाले समय में साहिबगंज जिले में भी बाल संप्रेषण गृह होगा जहां ट्रैफिकिंग आदि से छुड़ाए गए किशोरों के लिए व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएगी।
पुलिस अधीक्षक ने पुलिस पदाधिकारियों को सही अनुसंधान कर बच्चों को न्याय दिलाने की बात कही।
इस क्रम में पुलिस अधीक्षक अनुरंजन किस्पोट्टा ने पुलिस पदाधिकारियों से कहा कि बच्चों के दुर्व्यवहार से संबंधित मामलों में पुलिस सही अनुसंधान कर अभियुक्ति को पकड़े एवं अनुसंधान के क्रम में छोटी से छोटी बारीकियों को देखें ताकि समाज में लिप्त ऐसे अभियुक्तों को न्यायालय द्वारा सजा मिले और बच्चों को उनका न्याय मिले।
इस क्रम में मनोज कुमार सिंह,प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष,जिला विधिक सेवा प्राधिकार, साहिबगंज,राम निवास यादव, उपायुक्त सह उपाध्यक्ष,जिला विधिक सेवा प्राधिकार,अनुरंजन किसपोट्टा पुलिस अधीक्षक सह सदस्य जिला विधिक सेवा प्राधिकार,प्रेम नाथ तिवारी,अध्यक्ष,जिला अधिवक्ता संघ, धीरज कुमार,जिला न्यायाधीश प्रथम सह विशेष न्यायाधीश अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति एक्ट, बीरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव,जिला न्यायाधीश,तृतीय सह विशेष न्यायाधीश पॉस्को एक्ट,शेखर कुमार अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी, राजेश श्रीवास्तव सिविल जज सह न्यायिक दंडाधिकारी,आलोक सिंह अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी सह प्रधान दंडाधिकारी किशोर न्याय बोर्ड,मंच का संचालन धर्मेंद्र कुमार  सचिव,जिला विधिक सेवा प्राधिकार सह सीनियर सिविल जज ने किया जबकि अनुमंडल पदाधिकारी सदर राहुल,आनंद,अनुमंडल पदाधिकारी राजमहल रोशन साह,जिला समाज कल्याण पदाधिकारी सुमन गुप्ता जिला जनसंपर्क पदाधिकारी सविता सिंह,प्रेस एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधि एवं अन्य भी उपस्थित थे।
संवाददाता जहांगीर आलम


20221118_054610
20230101_075933
20230119_183243

Related Articles

Back to top button